जनसांख्यिकी

जनसांख्यिकी मानव आबादी का सांख्यिकीय अध्ययन है, विशेष रूप से आकार और घनत्व, वितरण और महत्वपूर्ण आँकड़ों (जन्म, विवाह, मृत्यु, आदि) के संदर्भ में। डेटा का संग्रह विभिन्न प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीकों से किया जाता है। सामान्य प्रत्यक्ष विधियों में से एक “जनगणना” है। जनगणना आमतौर पर केंद्र सरकार द्वारा आयोजित की जाती है जो हर व्यक्ति के डेटा को इकट्ठा करने के लिए एक कठिन और कठोर प्रयास करती है। यह 10 साल के अंतराल में किया जाता है।

आखिरी जनगणना 2011 में की गई थी। जनगणना 2011 के अनुसार, 547 गांवों में कुल 789043 (पुरूष – 398381, महिला – 390662) आबादी रहती है। जिले का जनसंख्या घनत्व 283 व्यक्ति / वर्ग किमी है। जनगणना के अनुसार साक्षरता दर 60.95% है, हालांकि लिंगानुपात प्रति 1000 पुरुषों पर 980 महिलाओं का है। अन्य विवरण इस प्रकार हैं:

जनसंख्या

कुल

पुरुष

महिला

0-6 की आयुवर्ग में

127458

65088

62370

अनुसूचित जाति

42830

21529

21301

अनुसूचित जनजाति

359672

180502

179170

शिक्षित

403260

236615

166645

अशिक्षित

258325

96678

161647

कुल कार्यशील

380851

216122

164729

कुल मुख्य कार्यशील

191826

142909

48917

मुख्य कार्यशील– कृषक

103905

78973

24932

मुख्य कार्यशील –खेतिहर मजदूर

43927

28517

15410

मुख्य कार्यशील –पारिवारिक उद्योग

1876

1373

503

मुख्य कार्यशील –अन्य

42118

34046

8072

कुल सीमांत कार्यशील-

189025

73213

115812

सीमांत कार्यशील-कृषक

54346

19367

34979

सीमांत कार्यशील-खेतिहर मजदूर

124585

47737

76848

सीमांत कार्यशील-पारिवारिक उद्योग

1835

826

1009

सीमांत कार्यशील- अन्य

8259

5283

2976

गैर कार्यशील

408192

182259

225933